head google-site-verification: google42e6ddb4e80570f4.html Arijeet sing कितने बार टूटने के बाद बना यह नाम ? ~ successnews.in

Arijeet sing कितने बार टूटने के बाद बना यह नाम ?

Arijit  sing ऐसा नाम जो न जाने कितनी बार टूटने के बाद बना नाम है ये, कहते है न मेहनत के आगे एक दिन किस्मत को भी झुकना पड़ता है वही Arijit sing के भी साथ हुआ है उनका मेहनत उनका लगन को देख के किस्मत को भी झोकना पड़ा। ऐसा नहीं है की वो पहले उतना अच्छा नहीं गाते थे वो अच्छा गाते थे लेकिन फिर भी अब तक कहा थे ये आवाज।Arijeet को The Arijit बनने के लिए कहा कहा से गुजरना पड़ा है आज हम इस सब सवालो का जवाब इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे।  आज आप सब को आपको भी अपने सारे सवालो के जवाब मिल जायेंगे जो आप बनना चाहते है लेकिन किसी कारन से अभी तक आप बन नहीं पाए है। 26 अप्रैल 1987 को बेस्ट बंगाल के मुर्शिदाबाद में Arijit sing का जन्म हुआ उनके पिताजी पंजाबी थे LIC में काम करते थे और माताजी बंगाली थी। Arijit sing ने अपने बचपन की पढाई जिया गंज राजा हाई स्कूल से पढाई में अच्छे खाशे थे लेकिन उनको म्यूजिक का कुछ ज्यादा ही लगाव था और हो भी क्यों न क्यूंकि उनके ननिहाल में म्यूजिक के दीवाने लोग थे उनके नानी जी इंडियन क्लासिकल में वेल ट्रेंड है ,उनके मामाजी तबला वाधक उनके मौसी सिंगर उनके माता जी भी इतना अच्छा गाती थी उनका पूरा परिवार म्यूजिक से घिरा हुआ था,तो अरिजीत सींग भला क्यों पीछे रहते क्यूंकि बच्चे घर के माहौल में घुल मिल जाते है बच्चे जिस माहौल में बड़े होते है जो देख कर बड़े होते है वो भी जिंदगी में वही करना चाहते है , तो ये बहुत मेटर करता है की बचा कोण सा माहौल में बड़ा हो रहा है जब अरिजीत के परिवार ने देखा की नन्हे से अरिजीत को म्यूजिक की दुनिया अच्छे लगते है तो वो भी उनका खुल के सपोर्ट करने लगे और उन्होंने तय किया की अरिजीत को म्यूजिक में प्रोफेशनल ट्रेनिंग दिलाएंगे ,इसका सीधा सा मतलब है की आपके परिवार के लोग जिस भी फील्ड से जुड़े हुए है अगर आप भी उस फील्ड से जुरना चाहते है तो आपके फैमली भी आपका सपोर्ट करेंगे लेकिन अगर आप किसी और फील्ड से जुरना चाहते है तो आपको बहुत सारे दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। तो चलिए आगे बढ़ते है अरिजीत को राजेंद्र प्रसाद हजारी ने इंडियन क्लासिकल म्यूजिक की ट्रेनिंग दी   और तबला बजाने की कला धीरेन्द्र प्रसाद हजारी द्वारा दी गयी थी अरिजीत सींग को तो बहुत छोटे उम्र में अरिजीत की संगीत में पकड़ बहुत मजबूत हो चुकी थी अब जरुरत थी एक मौके की उसके बाद 2005 में सोनी टीवी पे आये एक सो जिसका नाम था फेम गुरुकुल लेकिन फेम गुरुकुल में अरिजीत सींग का भाग लेने का बिलकुल मन नहीं था लेकिन फिर अरिजीत सींग के गुरूजी उनको मनाया था और उस समय अरिजीत संकर महादेवन के भी बहुत बड़े फें थे और उनको पता चला की फेम गुरुकुल में संकर महादेवन भी होंगे जज के तौर पे तो फिर वो मान गए ,और वो फेम गुरुकुल में भाग लिए उस समय भी अरिजीत सींग गाते थे तो लोगो के दिलो से होकर गुजरते थे लेकिन किस्मत को ये मंजूर नहीं था की अरिजीत सींग अभी स्टार बने फेम गुरुकुल में पब्लिक उनको ज्यादा वोट ही नहीं करती थी जिसके कारन वो टॉप 5 में भी  जगह नहीं बना पाए वो खुद भी निराश हो गए की क्या मतलब है ऐसे टेलेंट का जो कोई काम का ही न हो आखिर क्यों हुआ ऐसा मेरे साथ इतना अच्छा गाने के वाबजूद भी कुछ नहीं हो पाए , में क्यों रुका हुआ हु ये सरे सवाल हम सब के जिंदगी में भी होते है ,लेकिन बस हिम्मत नहीं हारना है आगे बढ़ते रहना है एक दिन मंज़िल जरूर मिल जाएगी अरिजीत सींग की तरह   अरिजीत सींग फेम गुरुकुल से बाहर हो चुके थे लोगो को लगा होगा की अरिजीत सींग अब दोबारा नहीं आ पाएंगे लेकिन कभी भी मंजिल  के तरफ जाने वाले एक रास्ते एक ही दिशा से नहीं जाते है वो कई दिशा  टर्न लेते हुए जाते है और हमलोगो  को भी नहीं पता चलता है की कब मंजिल के करीब पहुंच गए अरिजीत के गाने के तरीको से संकर महादेवन  काफी इम्प्रेस हुए और वो अरिजीत से वादा किये की आगे में आप का साथ जरूर दूंगा और दिए भी हाई स्कूल म्यूजिकल एल्बम के आल फॉर्मल आजा नचले  में अरिजीत को गाने का मौका मिला उसके बाद अरिजीत   ने एक और रियलिटी शो में पार्टिशिपेट किया जिसका  दस के दस ले गई थी  और हे शो अरिजीत सींग  था फिर भी वो स्टार नहीं बने थे लेकिन ये शो जितने के बाद उनको म्यूजिक लेवल में  गाने का  कॉन्ट्रेक्ट जरूर मिल  गया था , अब उनको पता  चल गया था की धीरे धीरे   मंज़िल के करीब जा रहे  है   लेकिन अब मुंबई में सर्वाइव करने के लिए उन्हें  कोई काम करने की जरुरत पर रहा था क्यूंकि सक्सेस मिलेगी तब मिलेगी लेकिन तब तक तो पैसो की जरुरत पड़ेगा न इसलिए अरिजीत बन गए म्यूजिक प्रोडूसर बड़े बड़े सिंगर के साथ वो म्यूजिक प्रोग्रामर के तौर पे काम करने लगे अब उनका सफर फिर एक बार आगे बढ़ने लगा अरिजीत म्यूजिक प्रोगरामिंग करते करते संगीत के अंदर तक चले गए  इसके बाद उनके टेलेंट को देख के प्रीतम जी काफी  इम्प्रेश हुए और उसके बाद उन्होंने अपने फिल्मो में अरिजीत सींग को गाने का मौका दिया और उसी दौरान संकर महादेवन  अरिजीत की बहुत मदद की संकर महादेवन अरिजीत के बारे में लोगो को बताते थे की ये लड़का बहुत अच्छा गाता है इसको आप अपने फिल्म में गाना गाने का मौका दे लेकिन उस समय लोग रिस्क लेना नहीं चाहते थे और इसलिए वो बात को टाल देते थे कुछ दिनों बाद प्रीतम ने अपने आने वाले फिल्म के लिए उन्हे गाने का मौका दिया और वो उन मौको को बहुत अच्छे से भुना पाए और धीरे धीरे उनका गाना सभी को अच्छा लगने लगा उनका फोल्लोवेर बहुत तेजी से बढ़ने लगा उसके बात समय आया आशिक़ी 2 का जिसमे एक गाना था तुम ही हो उस गाना के वजह से अरिजीत सींग रातो रात सुपर स्टार बन गए और उन्हें इस गाना के लिए बहुत सारे अवार्ड मिला।  तो दोस्तों आपसभी को ये पोस्ट कैसा लगा निचे कमेंट में जरूर बताये। दोस्तों आपको बस मेहनत करना है मंज़िल एक न एक दिन जरूर मिल जाएगी
Previous
Next Post »

गणतंत्र दिवस 2020 को रंगीन बनाने के कुछ टिप्स

26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर आओ, हम में से कई लोग टेलीविजन स्क्रीन पर दिन के आरंभ में एक विस्तृत मार्च पास्ट देखने के लिए आएंगे, इसके बाद ...